हरियाणा: सरकारी स्कूल के स्टूडेंट्स अब सीखेंगे खेती-बाड़ी, खुद की उगाई सब्जियों का लेंगे स्वाद

यमुनानगर | हरियाणा के सरकारी स्कूलों के बच्चों (Haryana Government Schools) को अब पढ़ाई के अलावा अब अन्य गुणों में भी निपुण किया जायेगा. सरकार की ओर से सरकारी विद्यालय के बच्चों के अब पढ़ाई के साथ खेती-बाड़ी भी सिखाई जाएगी. ताकि ये बच्चे खुद की उगाई सब्जियों स्वाद ले सकेंगे. दरअसल, हरियाणा के सरकारी स्कूलों के बच्चों को किचन गार्डनिंग (Kitchen Gardening) के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है. इसके साथ ही उन्हें खेती -बाड़ी के गुर भी सिखाये जायेंगे. इसको लेकर शिक्षा विभाग की ओर से सरकारी स्कूलों में पत्र जारी कर दिए गए है.

Poly House

किचन गार्डनिंग से मिलेंगे ये फायदे

बता दें सरकारी स्कूलों के बच्चे अब किचन गार्डनिंग करेंगे. सरकार के इस कदम से हरियाली बढ़ने के साथ मिड-डे मील में बनने वाली सब्जियों का खर्चा भी कम होगा. क्यूंकि अब हरियाणा के सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे बाजार की बजाय खुद की बनाई सब्जियों का स्वाद ले सकेंगे. इससे उन्हें ताजी और पौष्टिक सब्जियां खाने को मिलेंगी. इसके साथ ही उन्हे बाजार में मिलने वाली कीटनाशक दवाओं के छिड़काव वाली सब्जियों से छुटकारा मिलेगा. ऐसे में उनका स्वास्थ्य अच्छा बना रहेगा.

किचन गार्डन में शामिल होंगे ये पौधे

वही किचन गार्डनिंग को लेकर बागवानी विभाग की ओर से विद्यालयों में सब्जियों के बीज उपलब्ध करवाए जायेंगे. इन बीजों की मदद से स्टूडेंट्स स्कूलों में किचन गार्डन तैयार कर सकेंगे. इन गार्डन में उगाई जाने वाली सब्जियों को मिड डे मील में बनाया जायेगा. वही जिस स्कूल का किचन गार्डन सबसे अच्छा होगा उसे उपायुक्त की तरफ से सम्मानित किया जायेगा. स्कूलों में बच्चो की संख्या के अनुसार पौधे लगाए जायेंगे. वही शिक्षा विभाग की ओर से बच्चों को औषधि वाले पौधे भी उपलब्ध कराये जायेंगे.

ट्रेंडिंग-  हरियाणा सरकार ने जन्माष्टमी छुट्टी की तारीख में किया बदलाव, अब इस दिन रहेगा सार्वजनिक अवकाश

मेधावी छात्र होंगे सम्मानित

आपको बता दें बच्चो की गर्मियों की छुट्टियों के बाद किचन गार्डन की शुरुआत का फैसला लिया गया है. इसको लेकर सभी स्कूलों को पत्र भी जारी किये गए. इसके साथ ही शिक्षा विभाग की ओर से पांच मेधावी छात्रों को सम्मानित किया जायेगा. शिक्षा विभाग इन स्टूडेंट्स की लिस्ट स्कूलों से मांगेगा. अध्यापक ऐसे विद्यार्थियों के नाम देगा जिनकी सफलता पर उन्हें गर्व हो. इसके बाद स्कूल के प्रिंसिपल इन नामों को जिला शिक्षा अधिकारी को सौपेंगे. जिसके बाद इन विद्यार्थियों को सम्मान दिया जायेगा. इसके साथ ही कक्षा छठी से 12वीं के बच्चों के बीच क्विज प्रतियोगिता भी आयोजित कराई जाएगी, जिनमे से विजेता छात्रों को पुरुस्कृत किया जायेगा.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा से जुडी ताज़ा खबरों के लिए अभी जाए Haryana News पर.