पहाड़ों पर बारिश के बाद हरियाणा के इस जिले में आफत, यमुना से सटे गांव का संपर्क कटा, बाढ़ का खतरा

पानीपत | खतरे के निशान पर बहती यमुना नदी में बढ़ते जलस्तर के चलते टापू पर बसे रहीमपुर खेेड़ी के लोगों का साथ लगते गांवों से संपर्क कट गया है. ऐसे में अब यमुना नदी में ज्यादा पानी आने की वजह से गांव में इक्का दुक्का तैराक ही जान जोखिम में डालकर ट्यूब, सूखी घीया से तैरकर पहुंच रहे हैं. बारिश ही मुख्य वजह है कि बच्चों व महिलाओं के लिए बहती नदी को पार कर आना-जाना बंद हो गया है.

Haryana News Background

 

ऐसे में अगर दो से चार दिन में पानी कम नहीं हुआ तो गांव रहीमपुर खेड़ी में जरूरत का सामान खत्म हो सकता है. बरसात के चलते व हथनी कुंड बैराज से पानी छोड़े जाने से यमुना नदी का जलस्तर लगातार बढ़ता जा रहा है. यह स्तर अब चेतावनी लेवल तक पहुंच गया है. प्रतिदिन ज्यादा होते जलस्तर की वजह से रहीमपुर के लोगों का दूसरे गांवों से संपर्क कट जाता है.

इस गांव में लगभग 110 परिवार रहते थे. सुविधाओं की कमी व हर बार नदी में पानी आने से गांव से संपर्क कट जाने से बीते पांच वर्ष से गांव से लगभग 60 घरों से लोग पलायन कर गए हैं. अपने घरो पर ताला लगा कर नदी से बाहर दूसरे गांव मिर्जापुर में जाकर बस रहे हैं. पांच वर्ष में एक भी नया मकान नहीं बनाया गया है. गांव में एक भी गली पक्की नहीं है. यहा तक कि स्कूल से लेकर अस्पताल तक नहीं है.

गांव के लोग, टेलीफोन पर कर रहे है संपर्क

कानूनगो नरेश कुमार, बीडीपीओ सुरेश कुमार का इस मामले में कहना है कि यमुना का जल स्तर बढ गया है. टापू पर बसे लोगों से टेलीफोन कर संपर्क किया जा रहा है. पानी कम नहीं हुआ तो उनके लिए इंजन बोट मशीन लगवाने के लिए प्रयास करेंगे.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा में कोरोना से जुडी ताज़ा खबरों के लिए अभी जाए कोरोना केस हरियाणा ताज़ा खबर पर.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *