जानिये रेलवे स्टेशन पर क्यों लिखा रहता है कितनी है समुद्र तल से ऊंचाई, यात्रियों से इसका क्या हैं संबंध? यहां जानें

New Delhi | यदि आप ट्रेन में सफर करते रहते है या फिर कभी किया है तो आपकी नजर रेलवे स्टेशन पर लिखे समुद्र तल की ऊंचाई पर जरूर गई ही होगी. अगर नहीं भी गई है तो आज हम आपको इससे जुड़ी संपूर्ण जानकारी देने वाले है. बता दें कि समुद्र तल की ऊंचाई की जानकारी स्टेशन के नाम के ठीक नीचे छोटे अक्षरों में समुद्र तल की ऊंचाई कितनी है लिखा हुआ होता है.ऐसे में अगर अपने ध्यान दिया होगा तो आपके दिमाग में यह बात भी जरूर आई होगी कि आखिर स्टेशन पर इसके लिखे गए इन शब्दों के पीछे की क्या वजह है?

ट्रेंडिंग-  BSNL का धमाकेदार प्लान: सालभर की वैलिडिटी, डेली 2GB डेटा; कीमत Jio से भी आधी

रेलवे स्टेशन

दरअसल, भारतीय रेलवे नेटवर्क दुनिया के सबसे बड़े रेलवे नेटवर्क में से एक है. भारतीय रेलवे के हर स्टेशन पर आपको एक स्टेशन मास्टर का कार्यालय और पूछताछ केंद्र भी जरूर मिलता है. रेलवे ने पैसेंजर की यात्रा के समय पर किसी भी शिकायत के लिए एक हेल्पलाइन नंबर 139 भी जारी किया है परन्तु, हर यात्री कम से कम एक बार रेलवे स्टेशन के शुरुआत और अंत में लगे पीले रंग के साइनबोर्ड को देखकर यह पता लगाता है कि उनकी कितनी यात्रा हुई है और वे किस स्टेशन पर पहुंच गए हैं.

समुद्र तल से स्टेशन की ऊंचाई को मीन सी लेवल (MSL) को प्रमुखता से लिखे जाने के पीछे यात्रियों की सुरक्षा है. बता दें कि स्टेशन पर इसलिए यह जानकारी लिखी जाती है ताकि ट्रेन के ड्राइवर को बीच-बीच में इस बात की जानकारी मिलती रहे कि वो कितनी ऊंचाई पर जा रहा है या फिर कितना नीचे जा रहा है. इस दौरान एमएसएल की सहायता से एक लोको-पायलट ट्रेन की स्पीड को नियंत्रित करता है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा से जुडी ताज़ा खबरों के लिए अभी जाए Haryana News पर.