कृषि कानूनों पर नर्म हुए किसान? राकेश टिकैत बोले- सरकार से दोबारा वार्ता को तैयार, किंतु ये होगी शर्त

नई दिल्ली | भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने हाल ही में अपनी बात रखते हुए कहा है कि केन्द्र सरकार द्वारा जबरदस्ती लागू किए गए तीन कृषि कानूनों पर किसान यूनियनें केंद्र सरकार के साथ बात करने को तैयार हैं, किन्तु चर्चा इन कानूनों को रद्द करने को लेकर होगी. ऐसे में बीते दिन हुई किसान पंचायत को संबोधित करते हुए टिकैत ने कहा है कि किसानों को अभी भी अपना आंदोलन लंबे समय तक जारी रखना है, किन्तु वे निश्चित रूप से बिना जीते अपने घर नहीं जाएंगे.

राकेश टिकैत

राकेश टिकैत

हरियाणा बीकेयू के प्रमुख गुरनाम सिंह चढूनी सरकार पर कोविड-19 की स्थिति से निपटने में नाकाम रहने का सीधा सीधा आरोप लगाते हुए कहा है कि जिन मरीजों को ऑक्सीजन और अस्पतालों में बेड नहीं मिल रहे हैं, उन्हें भाजपा के सांसदों और विधायकों के अपने घर ले जाना चाहिए.

साथ ही साथ में उन्होंने कहा कि यह लड़ाई लंबी चलेगी, कितने महीने चलेगी, कोई नहीं जानता, किन्तु एक चीज तय है कि किसान इसे बिना जीते वापस नहीं जाएंगे.

इस बीच उन्होंने यह भी कहा कि जब भी सरकार बातचीत करना चाहेगी, तब संयुक्त किसान मोर्चा बात करेगा, किन्तु यदि सरकार इन कानूनों को 18 महीने के लिए निलंबित करने आदि जैसी चीजों पर अड़ी रही तो कोई बातचीत नहीं होगी.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा में कोरोना से जुडी ताज़ा खबरों के लिए अभी जाए कोरोना केस हरियाणा ताज़ा खबर पर.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *