रेल टिकट में सीनियर सिटीजन को फिर मिलने जा रही छूट, इस बार लागू होगा ये नया नियम

नई दिल्ली, Railway Concession to Senior Citizen | यदि आप भी अक्सर रेल में यात्रा करते रहते है तो ये खबर आपके लिए काम की साबित हो सकती है. दरअसल, रेलवे ने कोरोना काल से ही सीनियर सिटीजन (Senior Citizen) और खिलाड़ियों समेत दूसरे कैटगरी के यात्रियों को रेल किराये में मिलने वाली छूट को खत्म कर दिया था. जिसको लेकर काफी लंबे समय से लोग इस रियायत को एक बार फिर शुरू करने का इंतजार कर रहे थे. इसी बीच अब खबर आ रही है कि सरकार इस छूट को एक बार फिर शुरू करने पर विचार कर रही है, लेकिन ये रियायत केवल वरिष्ठ नागरिकों (Senior Citizen) के लिए ही प्लान की जा रही है.

Indian Railway Train

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, सरकार इस बार सीनियर सिटीजन को टिकट में मिलने वाली छूट के नियम और शर्तें जैसे आयु मानदंड में बदलाव कर सकती है. जिसके तहत अब टिकट में छूट केवल सामान्य (General Class) और शयनयान श्रेणी (Sleeper Class) पर ही लागू होगी. इसके अलावा हो सकता है सरकार यह रियायत केवल 70 वर्ष से ऊपर के वरिष्ठ नागरिकों को ही दे. जो कि पहले महिलाओं के लिए 58 वर्ष और पुरुषों के लिए 60 वर्ष निर्धारित थी. बताया जा रहा है इसके पीछे मुख्य कारण यह है कि बुजुर्गों के लिए सब्सिडी बरकरार रखते हुए इन रियायतों को देने से रेलवे पर पड़ने वाले वित्तीय भार का एक समान करना है.

रेलवे इस अन्य विकल्प पर भी कर रही विचार

सीनियर सिटीजन को रियायत देने के साथ रेलवे एक अन्य विकल्प को भी शुरू करने पर विचार कर रही है. वह यह है कि जल्द ही ट्रेनों में ‘प्रीमियम तत्काल’ योजना’ को शुरू किया जाये. ताकि उच्च राजस्व (High Revenue) उत्पन्न करने में मदद मिल सके. साथ ही यह रियायतों के बोझ को भी उठाने में उपयोगी साबित हो सकता है. यह योजना वर्तमान में करीब 80 ट्रेनों में चलाई जा रही है.

क्या है ‘प्रीमियम तत्काल’ योजना’

‘प्रीमियम तत्काल’ योजना’ एक रेलवे की ओर से शुरू किया गया एक कोटा है. जिसमे कुछ सीटें अधिक किराये के साथ आरक्षित रहता है. यह अंतिम समय में अचानक यात्रा करने वाले लोगो की सुविधा के लिए होता है. जो कि थोड़ा अतिरिक्त पैसा खर्च करने को तैयार है. प्रीमियम तत्काल किराये में मूल ट्रेन किराया और अतिरिक्त तत्काल शुल्क दोनों शामिल होते है.

मालूम हो 2020 में कोरोना महामारी के बाद से ही रेलवे ने सभी श्रेणियों को मिलने वाली छूट बंद कर दी है. जिसकी वजह कोरोनाकाल में रेलवे को करोड़ो का नुकसान होना है. कोरोना महामारी से पहले वरिष्ठ नागरिको में 58 वर्ष से अधिक की महिलाओं को किराये में 50 प्रतिशत की छूट दी जाती थी. जबकि 60 वर्ष से ऊपर के पुरुषों और ट्रांसजेंडर को किराये में 40 फीसदी छूट का प्रावधान था. वही अब रेलवे इस नियम में बदलाव करते हुए ये रियायत केवल 70 वर्ष से ऊपर के बुजुर्ग और गैर-वातानुकूलित श्रेणी को ही देने पर विचार कर रहा है. एक सूत्र का कहना है कि यदि हम ये रियायत सामान्य श्रेणियों तक सीमित रखते हैं, तो हम 70 प्रतिशत यात्रियों को समायोजित कर लेंगे.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा से जुडी ताज़ा खबरों के लिए अभी जाए Haryana News पर.