EPFO के कर्मचारियों की बल्ले-बल्ले, नई पेंशन योजना लागू

नई दिल्ली | नौकरीपेशा लोगो के लिए कर्मचारी भविष्य निधि संगठन यानि ईपीएफओ (EPFO) खुशखबरी लेकर आ रहा है. ईपीएफओ संगठित क्षेत्र के वो कर्मचारी जिनका वेतन 15 हजार रूपये से अधिक है तथा कर्मचारी पेंशन योजना-1995 के तहत अनिवार्य रूप से नहीं आते है. ऐसे कर्मचारियों के लिए एक नई पेंशन योजना लाने पर विचार कर रहा है. वर्तमान में अनिवार्य रूप से ईपीएस-95 के अंतर्गत संगठित क्षेत्र के वे कर्मचारी आते है, जिनका मूल वेतन (मूल वेतन और महंगाई भत्ता) 15,000 रुपये तक है. वही इस पेंशन योग्य वेतन बढ़ाने से संगठित क्षेत्र के 50 लाख कर्मचारी EPS-95 के दायरे में आ सकते हैं.

ट्रेंडिंग-  BSNL का धमाकेदार प्लान: सालभर की वैलिडिटी, डेली 2GB डेटा; कीमत Jio से भी आधी

EPFO

दरअसल, ईपीएफओ के सदस्यों द्वारा अधिक पेंशन की मांग की आधार पर 15 हजार से अधिक सैलरी वाले कर्मचारियों के लिए नई पेंशन योजना लाने का विचार किया जा रहा है. इसका प्रस्ताव 11 और 12 मार्च को गुवाहाटी में शीर्ष निकाय केंद्रीय न्यासी बोर्ड (सीबीटी) की बैठक में आ सकता है. इस बैठक के दौरान नवंबर, 2021 में पेंशन संबंधी मुद्दों पर गठित एक उप-समिति भी अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी.

जानकारी के लिए बता दें साल 2014 में ईपीएफओ ने मासिक पेंशन योग्य मूल वेतन को 15,000 रुपये तक सीमित करने के लिए योजना में संशोधन किया था. इसके बाद संगठित क्षेत्र में वेतन में बदलाव और मूलयवृद्धि के चलते इसे 1 सितंबर 2014 को 6,500 रुपये से अधिक बदलाव किया गया. बाद में मासिक मूल वेतन की सीमा को बढ़ाकर 25,000 रुपये करने की मांग हुई. इसके बाद उस पर बातचीत चली लेकिन इसके बावजूद भी इस प्रस्ताव को मंजूरी नहीं मिल पाई.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा से जुडी ताज़ा खबरों के लिए अभी जाए Haryana News पर.