दिल्ली-मुंबई ग्रीनफिल्ड एक्सप्रेसवे: अब दिल्ली- मुंबई का सफर 12 घंटे में होगा तय, राजस्थान के 7 जिलों से गुजरेगा , बनेगा बड़ा औद्योगिक हब

नई दिल्ली, दिल्ली-मुंबई ग्रीनफिल्ड एक्सप्रेसवे | दुनिया का सबसे शानदार और नंबर-1 दिल्ली-मुंबई ग्रीनफिल्ड एक्सप्रेसवे अब बहुत जल्द बनकर तैयार हो जायेगा. यह एक्सप्रेसवे एक बड़ा औद्योगिक हब बनकर उतरेगा. वही यह हाईवे पांच राज्यों राजस्थान, दिल्ली, हरियाणा, गुजरात और महाराष्ट्र से होकर गुजरेगा. जिससे यात्रियों को एक राज्य से दूसरे राज्य में एक लंबी दूरी तय करने में आसानी होगी. साथ ही इसके बनने से प्रदूषण की समस्या भी कम होगी. इसके अलावा इस एक्सप्रेसवे के किनारे नई औद्योगिक टाउनशिप और स्मार्ट सिटी बनाने का भी प्रस्ताव है. जिसका सर्वे अभी जारी है.

दिल्ली-मुंबई ग्रीनफिल्ड एक्सप्रेसवे

दिल्ली-मुंबई ग्रीनफिल्ड एक्सप्रेसवे

बता दें दिल्ली-मुंबई ग्रीनफिल्ड एक्सप्रेस-वे बनने से दिल्ली से मुंबई की दूरी मात्र 12 घंटे में तय की जा सकेगी. बताया जा रहा है यह एशिया का पहला एनिमल ओवरपास एक्सप्रेसवे होगा. जिससे सफर करने के साथ उद्योग जगत के लोगो को भी फायदा मिलेगा. इस एक्सप्रेसवे के पूरे रूट पर 92 स्थानों पर इंटरवल स्पॉट डेवलप किए जाएंगे. यह ग्रीनफिल्ड हाईवे करीब 1,350 किलोमीटर लंबा होगा. इसकी लागत में करीब 1 लाख करोड़ रुपया खर्च किया जा रहा है.

 

ट्रेंडिंग-  कोटक महिंद्रा बैंक ने बढ़ाई FD पर ब्याज दरें, देखें क्या है नई रेट

अबतक करीब 350 किलोमीटर तक का काम पूरा हो चुका है. इस एक्सप्रेसवे पर अभी केवल आठ लेन बनाये गए है. अभी 4 लेन इसमें और बढ़ाये जायेंगे. जिसके बाद यह 12 लेन का एक्सप्रेसवे हो जायेगा. आगे जिन चार लेन को इसमें जोड़ा जायेगा. उसमे केवल इलेक्ट्रिक व्हीकल ही चलेंगे. 2 जाने के लिए और 2 आने के लिए होंगे. जिसके बाद यह देश का पहला एक्सप्रेस-वे बन जायेगा. जिसपर डेडिकेटेड इलेक्ट्रिक व्हीकल फोरलेन होंगी. इस एक्सप्रेसवे के बनने से करीब हर साल 32 करोड़ लीटर ईंधन की बचत होगी.

ट्रेंडिंग-  ITR भरने वालों के लिए जरूरी खबर, आयकर विभाग ने उठाये ठोस कदम

राजस्थान के इन 7 जिलों से गुजरेगा

बताया जा रहा है दिल्ली-मुंबई ग्रीनफिल्ड एक्सप्रेस-वे राजस्थान के 7 जिलों से होकर गुजरेगा. जिनमे अलवर, भरतपुर, दौसा,सवाईमाधोपुर, टोंक, बूंदी और कोटा शामिल है. दौसा में ये आगरा-जयपुर हाइवे से जुड़ेगा. और दिल्ली से दौसा का काम इस साल दिसंबर तक पूरा हो जाएगा.

सड़क और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने बताया कि कोरोना के चलते एक्सप्रेसवे के काम में देरी हो रही है, परन्तु हाईवे का काम जनवरी 2023 तक पूरा हो जायेगा. आगे उन्होंने बताया जहाँ अभी दिल्ली से मुंबई जाने में 25 घंटे लगते हैं. वही इस ग्रीनफिल्ड एक्सप्रेसवे बनने के बाद ये दूरी आधी यानि 12 घंटे की रह जाएगी. जानकारी के लिए बता दें ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे प्रोजेक्ट कार्य साल 2018 में शुरू हुआ. और 9 मार्च, 2019 को इसकी आधारशिला रखी गई थी.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा से जुडी ताज़ा खबरों के लिए अभी जाए Haryana News पर.