Sovereign gold bond scheme सरकार बेच रही है सस्ता सोना, जल्दी कीजिए ख़रीद

Sovereign gold bond scheme | रूस-यूक्रेन युद्ध के बीच सॉवरेन गोल्ड बांड यानी सरल शब्दों में कहा जाए तो एसजीबी स्कीम 2021-22- सीरीज 10 आज यानी 28 फरवरी से खुलने जा रही है. बता दें कि वित्त वर्ष 22 की इस आखिरी किस्त में जारी एसजीबी (SGB) का इश्यू प्राइस मात्र 5,109 रुपये प्रति ग्राम है, जो 9 वीं सीरीज के इश्यू प्राइस कुल 4,786 रुपये प्रति ग्राम के मुकाबले में 323 रुपये अधिक है. ऐसे में अब हम आपको मुख्य रूप से जानकारी दें दे कि भारत सरकार ने रिजर्व बैंक यानी RBI के साथ सलाह के बाद ऑनलाइन आवेदन करने वाले निवेशकों को कुल 50 रुपये प्रति ग्राम की छूट देने जैसा अहम निर्णय लिया है. बता दें कि इसके लिए दरअसल, आपको डिजिटल पेमेंट माध्यम से करना है.

Sovereign gold bond scheme

Sovereign gold bond scheme

यहां पर हम बता दें कि इस मामले में कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि यूक्रेन में टेंशन के चलते जारी अनिश्चितता के बीच किसी को यह मौका बिल्कुल भी हाथ से जाने नहीं देना चाहिए और इश्यू के लिए जरूर सब्सक्राइब करना चाहिए. बता दें कि यह इश्यू सब्सक्रिप्शन के लिए फरवरी माह की 28 तारीख 2022 से मार्च माह की 4 तारीख 2022 तक खुला रहेगा.

कहां से और कैसे कर सकते हैं निवेश

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया, भारत सरकार की तरफ से SGB की 10वीं किस्‍त जारी की जा रही है. यह बांड सभी बैंकों, स्टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड, डाकघर और नेशनल स्‍टॉक एक्‍सचेंज और बॉम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंज की सहायता से बेचे जाएंगे. स्माल फाइनेंस बैंक और पेमेंट बैंक में इनकी बिक्री नहीं होती है. साथ ही साथ बता दें कि सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम में एक वित्त वर्ष के अंदर एक व्यक्ति अधिक से अधिक 4 किग्रा गोल्‍ड बॉन्ड खरीद सकता है. इसी दौरान बता दें कि कम से कम निवेश करने के लिए एक ग्राम होना जरूरी है. ट्रस्‍ट या उसके जैसी संस्‍थाएं एक वित्‍त वर्ष में 20 किग्रा तक के बॉन्‍ड खरीद सकती हैं.

हाल ही में जारी हुई एक रिपोर्ट में कहा गया है कि आईआईएफएल सिक्योरिटीज के वाइस प्रेसिडेंट अनुज गुप्ता ने बताया कि रूस-यूक्रेन युद्ध से बने हालात के लिए सोने की कीमतों में उतार-चढ़ाव जारी रहने की उम्मीद है. लॉन्ग टर्म इनवेस्टर्स के लिए 5,109 रुपये प्रति ग्राम का दाम एक अच्छा दांव हो सकता है. अगर आप सोने में बीते 5 वर्ष के रिटर्न पर गौर करें तो यह 3,000 रुपये प्रति ग्राम से बढ़कर 5,100 रुपये प्रति ग्राम के स्तर पर पहुंच गया है. इस प्रकार इनवेस्टर्स को इसमें 70 प्रतिशत का रिटर्न मिल चुका है. यही वजह है कि मौजूदा जिओपॉलिटिकल अनिश्चितता के माहौल में 5 साल के लिए इस गोल्ड बांड स्कीम में निवेश करना अच्छा दांव हो सकता है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा से जुडी ताज़ा खबरों के लिए अभी जाए Haryana News पर.