Karwa Chauth 2022: ऐसी महिलाएं ना करें करवा चौथ का व्रत, पड़ सकता है बुरा प्रभाव

लाइफस्टाइल डेस्क, Karwa Chauth 2022 | करवाचौथ पर नवविवाहित महिलाएं इस साल व्रत ना करें, यही नहीं जो महिलाएं व्रत का उद्यापन करवाना चाहती है, तो वह भी शुभ नहीं है ज्योतिष शास्त्र में हर साल के कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि पर करवाचौथ मनाया जाता है.

Karwa Chauth
प्रतीकात्मक तस्वीर

शुभ मुहूर्त

चतुर्थी तिथि आरंभ 13 अक्टूबर 2022 को सुबह 1:59 मिनट पर.

चतुर्थी तिथि का समापन 14 अक्टूबर 2022 को सुबह 3:08 मिनट पर.

पूजा का शुभ मुहूर्त

13 अक्टूबर को शाम 6:01 लेकर शाम 7:15 तक.

ट्रेंडिंग-  दिसंबर महीने में इन सात राशि वालों की चमकेगी किस्मत, बन रहें सफलता के पूरे योग

अमृतकाल मुहूर्त शाम 4:08 से शाम 5:50 तक.

अभिजीत मुहूर्त सुबह 11:21 से दोपहर 12:07 तक.

करवा चौथ पर चंद्रमा उदय

13 अक्टूबर को रात 8:19 पर

करवा चौथ का उद्यापन

विवाहित एक बार उद्यापन कर ले तो फिर उसके बाद के सालों में वो व्रत के दौरान एक बार पानी या चाय पी सकती है, या फिर व्रत बंद भी कर सकती है.

ट्रेंडिंग-  दिसंबर महीने में इन सात राशि वालों की चमकेगी किस्मत, बन रहें सफलता के पूरे योग

कैसे करें उद्यापन

करवा चौथ के व्रत का उद्यापन करवाचौथ के दिन ही करवाना चाहिए. जिसके लिए 13 महिलाओं को 13 सुपारी देकर भोजन कराये जिसने व्रत कर रखा हो. यह महिलाएं करवा चौथ का व्रत पूजन और व्रत का पारण अपने घर ही करें भोजन में लहसुन का प्रयोग ना करें.

नवविवाहित या जिसकी नई नई शादी हुई है अपने पति की सलामती के लिए करवा चौथ के व्रत की शुरुआत करती है. एक बार शुरू किया गया करवा चौथ का व्रत पति के जीवित रहने तक करना पड़ता है. करवा चौथ का व्रत बिना पानी पीएं और बिना भोजन करे बिना करे करना पड़ता है. लेकिन जीवन में विभिन्न कारणों से ऐसी समस्या उत्पन्न हो जाती है. जब पत्नी के लिए निर्जल व्रत रख पाना मुश्किल होता है जबकि मैं व्रत नहीं तोड़ना चाहती है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा से जुडी ताज़ा खबरों के लिए अभी जाए Haryana News पर.