दीपेंद्र हुड्डा ने दिया ब्यान: हरियाणा सरकार के गिरने से रद्द हो सकते है तीनों कृषि कानून

जींद| किसानों की आवाज को दबने नहीं दिया जाएगा. हरियाणा में सरकार के गिरने की वजह से केंद्र सरकार झुक सकतीं है. सरकार गिरते ही कृषि कानून रद्द किए जा सकते हैं. यह बात बीते दिन राज्य सभा सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कही है. वह टीकरी बॉर्डर पर जान गंवाने वाले किसान रोशन सिंह के घर शोक प्रकट करने उनके गांव चुहड़पुर पहुंचे थे.

दीपेंद्र हुड्डा ने केंद्र से इस मामले का तुरंत हल निकालने के लिए कहा

ऐसे में दीपेंद्र हुड्डा ने अपना ब्यान देते कहा है कि निर्दलीय विधायकों के साथ -साथ जजपा के विधायकों को भी इस समय किसानो का साथ देते हुए इस्तीफा दे देना चाहिए. साथ ही साथ उन्होने कहा कि कांग्रेस सरकार तो शुरू से ही किसानों के साथ थी और आगे भी भविष्य में पूरी तरह से किसानो का ही समर्थन करती रहेगी. इतना समय बीत चुका है और बिना समय गंवाए केंद्र सरकार को बातचीत के माध्यम से इस मामले का जल्द से जल्द कोई हल निकालना चाहिए.

जनता ने जजपा को भाजपा की सरकार बनवाने के लिए वोट नहीं दिया था

दीपेंद्र हुड्डा ने वहीं अपनी बात को विस्तार पूर्वक रखते हुए कहा कि इस समय पर किसानों को इतनी मुश्किलो का सामना करते देख जननायक जनता पार्टी को राज्य सरकार से अपना समर्थन वापस ले लेना चाहिए. लोगों ने जजपा को भाजपा की सरकार बनाने के लिए वोट नहीं दिया था. लोगों ने केवल भाजपा को सत्ता में आने से रोकने के लिए ही जजपा (जननायक जनता पार्टी) को अपना कीमती वोट दे कर सत्ता में शामिल होने का मौक़ा दिया था. यहां हम आपको विशेष रूप से जानकारी दें दे कि दीपेंद्र हुड्डा ने यह बात जजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अजय चौटाला के बयान पर प्रतिक्रिया के तौर पर कही है क्योंकि, अजय चौटाला ने बीते दिनों कहा था कि वह हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला का इस्तीफा अपनी जेब में रखकर चलते हैं.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा में कोरोना से जुडी ताज़ा खबरों के लिए अभी जाए कोरोना केस हरियाणा ताज़ा खबर पर.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *