बिग ब्रेकिंग: जींद वासियों की प्यास बुझाएगा भाखड़ा नहर का पानी, खारे पानी से मिलेगी निजात

जींद | जींद शहर की सवा दो लाख के क़रीब आबादी की प्यास अब भाखड़ा नहर के पानी की सहायता से बुझेगी. इसे मामले को लेकर जन स्वास्थ्य विभाग को सिंचाई विभाग से हाल ही में एनओसी हासिल हो गई है. ऐसा केवल इसलिए क्योंकि, नरवाना के नज़दीक से गुजर रही भाखड़ा ब्रांच नहर से पाइप लाइन दबाने के लिए अब विभाग ने नेशनल हाईवे अथारिटी को पत्र सौंप कर एनएच- 71 के साथ- साथ पाइप लाइन दबाने के लिए एनओसी मांगी है. जींद विधान सभा क्षेत्र के बड़ौदी गांव की कुल 55 एकड़ जमीन में नहरी पानी को आधार मानते हुए जल घर बनाने के लिए विभाग की ओर से योजना बनाई जा रही है.

bhakhara canal 58e0b7ab8bca2

फिलहाल 50 से अधिक ट्यूबवेलों से हो रही है पेयजल की सप्लाई

जींद शहर में फिलहाल जन स्वास्थ्य विभाग अपने 50 से भी अधिक ट्यूबवेलों का पानी लोगों को पीने के लिए सप्लाई कर रहा है. कहा जा रहा है कि पहले इन सभी ट्यूबवेलों का पानी मीठा होता था किन्तु, कई सालों से भूमिगत जल के लगातार दोहन की वजह से भूमिगत जल अब खारा हो गया है. यहीं वजह है कि यह अब बिल्कुल भी पीने लायक नहीं है. ऐसे में अब इसमें कई जगह टीडीएस 1500 का आंकड़ा भी पार जा चुका है.

खारे पानी से मिल सकती है राहत

बताया जा रहा है कि पानी के खारेपन को कम करने के लिए ही जन स्वास्थ्य विभाग को हांसी ब्रांच नहर के साथ लगे ट्यूबवेलों के मीठे पानी में खारे पानी वाले ट्यूबवेलों का पानी मिला कर सप्लाई करना पड़ रहा है. इसके लिए विभाग भी मजबूर हैं वहीं, अब उम्मीद लगाईं जा रही है कि नहरी पानी को आधार बना कर पेय जल सप्लाई शुरू हो जाने के बाद से लोगों को ट्यूबवेलों के खारे पानी से छुटकारा मिल सकता है.

जल्द शुरू होगी डीपीआर

यहां हम आपके साथ विशेष रूप से जानकारी सांझा कर दे कि बड़ौदी गांव के पास कुल 55 एकड़ जमीन में जींद शहर के लिए नहरी पानी पर आधारित जल घर के निर्माण के लिए एक बड़ी योजना की डीपीआर जल्द तैयार की जा रही है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा में कोरोना से जुडी ताज़ा खबरों के लिए अभी जाए कोरोना केस हरियाणा ताज़ा खबर पर.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *