किसान आंदोलन:राकेश टिकैत बोले- सरकार की चुप्पी इशारा कर रही है कि आंदोलन के खिलाफ कुछ तो होने वाला है

नई दिल्ली | बीते काफ़ी दिनो से तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन अभी भी जारी है. इस दौरान भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने आशंका जताई है कि इस किसान आंदोलन के खिलाफ़ केंद्र सरकार के दिमाग में कुछ तो खिचड़ी पक रही है. साथ ही साथ में कहा जा रहा है कि ‘सरकार की चुपी केवल इशारा कर रही है कि आंदोलन के खिलाफ कुछ न कुछ तो जरूर होने वाला है क्योंकि, 15 से 20 दिनों से लगातार सरकार खामोश है. इस समय पर वह किसी न किसी तैयारी में लगी है।’

किसान

जब तक मानी नही जाएंगी मांगे, डटे रहेगें किसान

how do indian farmers adapt twt result

किसान नेता ने इस ख़ास बातचीत ने आगे बताया कि हम तब तक दिल्ली से वापस नहीं जाएंगे, जब तक इन सभी काले कानून को लेकर हमारी मांगें पूरी नहीं की जाती है. ऐसे में अब यह निर्णय केवल और केवल केंद्र सरकार को करना है कि उन्हें कब तक इस आंदोलन को खत्म करना है. जैसे ही सरकार इन सभी मांगे मान लेती है वैसे ही हम भी अपने गांव की ओर रुख कर लेंगे. यदि ऐसा नहीं हुआ तो फिर किसान खेत भी देखेंगे और खेतों के साथ साथ में आंदोलन जारी रखेंगे.

peasant11 1

बातचीत करने के लिए हर समय तैयार है किसान, केवल हल चाहिए

11 09 2020 pm modi live 20735382 12349613

आंदोलन खत्म करने के मामले पर पूछे गए सवाल पर टिकैत ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि किसान संगठनों और केंद्र सरकार के बीच अब तक कुल 12 दौर की बैठकें हो चुकी हैं. हालंकि, अभी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने भी अपना अपना पक्ष रखते हुए कहा है कि बातचीत के रास्ते से किसानों की समस्या का समाधान किया जा सकता है

modi 7

किंतु, बैठक को लेकर अभी तक केंद्र सरकार की तरफ से किसी भी प्रकार का कोई प्रस्ताव किसानों को नहीं मिला है. सरकार जिस भी समय पर हमे बुलाए हम बातचीत करने के लिए हर समय तैयार हैं.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा में कोरोना से जुडी ताज़ा खबरों के लिए अभी जाए कोरोना केस हरियाणा ताज़ा खबर पर.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *