जानें Window AC और Split AC में कौन बेहतर, बिजली बिल और पैसा दोनों की होगी बचत

Diffrence Between Window & Split AC | गर्मियों का मौसम शुरू हो चुकी है. और मार्च के महीने में ही गर्मी ने अपना भीषण रूप दिखाना शुरू कर दिया है. जिसके चलते अब बाजारों में भी AC की डिमांड बढ़ने लगी है. तो यदि आप भी इस गर्मी के सीजन में एसी खरीदने का सोच रहे है. और आपके साथ भी विंडो (Window AC) या स्प्लिट (Split Ac) कौन सा एसी लें ? इस बात को लेकर समस्या आ रही है. तो आज हम आपकी इसी समस्या का समाधान करने जा रहे है. जिससे आपके पैसे की बचत होने के साथ आपका बिजली बिल भी काफी कम आयेगा.

ac cooler

अक्सर जब हम एसी खरीदने जाते है तो हमे इस बात की कन्फ्यूजन रहती है कि हम विंडो एसी ले या स्प्लिट। ऐसे में आज हम आपको बेहतरीन एसी का चुनाव करने में मदद करेंगे. तो आप यदि आप इस गर्मी एसी ले रहे है तो आपको थोड़ा ध्यान देने की जरूरत होगी। मार्किट में दो तरह के एसी मिलते है. पहला विंडो दूसरा स्प्लिट. ऐसे में आप अपनी सुविधा अनुसार इन दोनों में से किसी भी एसी का चुनाव कर सकते है.

विंडो एसी (Window AC)

विंडो एसी के लिए आपको खिड़की की जरूरत होती है. इसके साथ ही विंडो एसी में बिजली की खपत भी कम रहती है. और विंडो एसी के प्राइस भी कम होते है. हालांकि यह चलने पर थोड़ी आवाज करता है. लेकिन इसकी सर्विस में खर्च कम आता है. वही विंडो एसी खिड़की से बाहर लगे होने के कारण इसकी हर साल सर्विस करानी पड़ती है. क्यूंकि बाहर होने की वजह से इसमें धूल और बारिश के पानी की वजह से जंग और डस्ट जाने का खतरा ज्यादा रहता है. ये ऐसी तुरंत कूलिंग करते है. साथ ही विंडो एसी की ज्यादा कूलिंग खिड़की के पास ही रहती है. यदि आप किराये के घर में रहते है तो आपको विंडो एसी का चुनाव करना बेहतर होगा. क्यूंकि इसको आप आसानी से निकलवाकर ले जा सकते है. छोटे कमरे के लिए आप विंडो एसी का सलेक्शन कर सकते हो.

स्प्लिट एसी (Split AC)

स्प्लिट एसी विंडो के मुकाबले महंगे होते है. इनमे बिजली की खपत थोड़ी ज्यादा भी रहती है. स्प्लिट एसी के चलने पर किसी तरह की कोई आवाज नहीं होती है. साथ ही यह कमरे में स्पेस भी नहीं लेता यह दीवार पर लगता है. स्प्लिट एसी बड़े कमरे को ठंडा कर देते है. हालांकि यह कूलिंग करने में थोड़ा समय लेता है. यह एसी बाहर की धूल -मिटटी और धूप से बचे रहते है. स्प्लिट एसी लगवाने में आपको अपने कमरे में थोड़ी तोड़फोड़ करवानी होगी.

कितने टन और रेटिंग का AC चुने ?

इसके अलावा, आपको एसी का चुनाव करते वक़्त इसके टन का भी ध्यान रखना पड़ता है. क्यूंकि इसका असर कूलिंग कैपिसिटी पर पड़ता है. आपको अपने कमरे के हिसाब से एसी के टन का चुनाव करना होता है. 2 टन या उससे अधिक क्षमता वाला एसी कमरे को जल्दी ठंडा करता है वही इससे कम यानि 1 या 1.5 टन का एसी कूलिंग करने में टाइम लेता है.

ऐसे में आप बड़े कमरे के लिए 2 टन या उससे अधिक और छोटे कमरे के लिए 1 या 1.5 टन का एसी ले सकते है. टॉप फ्लोर पर रहने वाले लोगो के लिए 1.5 या 2 टन के एसी की जरूरत होती है. वही ज्यादा टन के एसी में बिजली का बिल भी ज्यादा आता है.

इसके अलावा, एसी का चुनाव करते समय हमे रेटिंग को भी ध्यान में रखना पड़ता है क्यूंकि  इसका असर हमारी बिजली की खपत पर पड़ता है. जितनी ज्यादा रेटिंग का एसी होगा उतनी कम बिजली खर्च होगी. यदि आप रात में 6-7 घंटे ही एसी चला रहे है तो आप 3 या 4 स्टार रेटिंग का एसी ले सकते है. लेकिन ज्यादा समय के लिए एसी के इस्तेमाल के लिए आपको 5 स्टार रेटिंग वाला एसी लेना होगा.

इन दिनों मार्किट में इन्वर्टर एसी भी मिलने लगे है. इनसे बिजली की खपत कम होती है. हालांकि इनकी कीमत ज्यादा होती है. अब आप दोनों एसी का अंतर समझ चुके होंगे. ऐसे में आप अपने बजट और सुविधा के अनुसार दोनों में से किसी भी एसी को खरीद सकते है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा से जुडी ताज़ा खबरों के लिए अभी जाए Haryana News पर.