SBI ने अपने करोड़ों ग्राहकों को किया सतर्क, इन बातों को जरूर रखें ध्यान वरना पड़ेगा पछताना

नई दिल्ली, SBI Alert | आजकल की दुनिया डिजिटल हो चुकी है. इस डिजिटिलीकरण युग समाज में एक क्रांति लेकर आया है. आज घर बैठे हम डिजिटल माध्यम से शॉपिंग, होटल, ट्रेन, फ्लाइट आदि की बुकिंग आसानी से मिनटों में कर सकते है. मात्र आपके एक क्लिक पर आपके सभी जरूरी काम चंद मिनटों में निपट सकते है. लेकिन इन सुविधाओं के बीच इस डिजिटल पेमेंट के काफी नुकसान भी है. डिजिटल भुगतान के आने से समाज में साइबर फ्रॉड भी काफी देखने को मिल रहे है. वही तमाम लोग आये दिन इस साइबर ठगी (Cyber Fraud) का शिकार होते है.

sbi bank

बता दें डिजिटल के इस दौर में साइबर अपराधी भी काफी बढ़ने लगे है. साइबर अपराधी लोगो को ऑनलाइन ही कई तरह के लुभावने ऑफर देकर लोगो को अपने जाल में फंसाकर ठग लेते है. जिसके बाद लोगो के खातों में से रकम उड़ जाती है. जिसके बाद लोगो के पास पछताने के सिवा कुछ नहीं बचता है. इन्ही फ्रॉड केसो पर लगाम लगाने के लिए देश की सबसे बड़ी सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इण्डिया (SBI) ने अपने करोड़ो ग्राहकों को एक ट्वीट के जरिये सतर्क किया है.

SBI ने ट्वीट कर किया सतर्क

एसबीआई ने अपने करोड़ों ग्राहकों को आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए सतर्क कर लिखा – ‘किसी भी चीज को शेयर करना ही देखभाल है. मगर जब बात ओटीपी की आती है, तो किसी भी व्यक्ति के साथ अपना ओटीपी नंबर (OTP) कभी शेयर न करें.’ क्यूंकि हमारे सामने कई ऐसे मामले आये है. साइबर अपराधी (Cyber Criminal) बैंक ग्राहकों को अनेकों बढ़िया ऑफर देकर फंसाने की कोशिश करते है. फिर उनसे ओटीपी की मांग की जाती है. जिसके बाद उनका बैंक अकाउंट खाली हो जाता है.

तेजी से बढ़ रहे साइबर क्राइम के मामले

एसबीआई के करीब 45 करोड़ ग्राहक है. ऐसे में हमारी जिम्मेदारी बनती है कि हम अपने ग्राहकों को सतर्क कर इस साइबर क्राइम (Cyber Crime) से उनका बचाव कर सके. आज देशभर में साइबर क्राइम के मामले तेजी से बढ़ रहे है. CERT-In इंडियन कम्प्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (Indian Computer Emergency Response Team) कें आंकड़ों के अनुसार 2018 के बाद से देश में तेजी से साइबर अपराध के मामले बढ़े हैं.

ट्रेंडिंग-  कोटक महिंद्रा बैंक ने बढ़ाई FD पर ब्याज दरें, देखें क्या है नई रेट

जहां साल 2022 के पहले दो महीनों में ही 2,12,285 मामले दर्ज किए गए थे वहीं, साल 2018 में 2,08,456 मामले, और 2019 में 3,94,499 मामले, जबकि 2020 में 11,58,208 मामले और 2021 में 14,02,809 साइबर अपराध के मामले दर्ज किए गए थे. ऐसे में एसबीआई समेत अन्य लोगो को भी ऐसे फ्रॉड से सावधान रहने की सलाह दी जाती है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा से जुडी ताज़ा खबरों के लिए अभी जाए Haryana News पर.