निकिता तोमर के घर वालों ने CM और केंद्रीय राज्य मंत्री के सामने रखी 4 मांगें, जाने क्या है मांगे

बल्लभगढ़ | फरीदाबाद के पिछले कुछ दिनों से चर्चा में रहे निकिता तोमर हत्याकांड में मंगलवार को नया मोड़ ले लिया है. आपको बता दे कि निकिता तोमर के घर वालों ने सरकार के इस रवैये पर आपत्ति जताई है. जानकारी के मुताबिक, परिवार जनो ने तीन महीने तक धोखा देने का आरोप लगाते हुए यह ऐलान कर दिया है कि अगर समाधान नही होता है तो वो 30 जनवरी से वह आमरण अनशन पर बैठेंगे. इससे पहले सोमवार को उन्होंने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से तो मंगलवार सुबह केंद्र राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर से मुलाकात की. उनके सामने चार मांगें रखी हैं. साथ ही, इनके पूरा नहीं होने की स्थिति में अनशन की चेतावनी दी है.

Nikita Tomar

इन 4 बातों पर है निकिता के परिजनों को नाराजगी

  1. निकिता के पिता मूलचंद तोमर और मामा हुक्म सिंह रावत ने कहा कि हरियाणा सरकार ने परिवार के साथ धोखा किया है. 3 महीने में दोषियों को सजा का आश्वासन दिया गया था लेकिन 3 महीने पूरे होने के बाद अभी न्याय की आस अधूरी ही है.
  2. इसी के चलते निकिता तोमर के परिवार वाले सोमवार शाम को दिल्ली में मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मिले. वहां संतुष्टीजनक जवाब नहीं मिलने पर मंगलवार को फरीदाबाद में सेक्टर-28 स्थित केंद्रीय मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर के आवास पर उनसे भी मुलाकात की.
  3. पीड़ित परिवार का कहना है कि महापंचायत के दौरान जिन 37 लोगों पर दर्ज केस वापस लिया जाए. निकिता के भाई को योग्यता के अनुसार सरकारी नौकरी दी जाए.
  4. परिवार की स्तिथि को देखते हुए आर्थिक मदद की जाए और सेक्टर-2 स्थित सरकारी कॉलेज का नाम अब निकिता तोमर के नाम पर रखा जाए.

निकिता के पिता ने बताया कि परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा व केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने साजिश के तहत कॉलेज का नाम पूर्व केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज के नाम रखकर हमारे साथ एक बहुत बड़ा धोखा किया है. परिजनों का कहना है कि अब सरकार के दरवाजे पर नहीं जाएंगे, बल्कि समाज के साथ मिलकर न्याय की लड़ाई लड़ेंगे. अब वो गांव-गांव जाकर समाज के लोगों से मिलेंगे. साथ ही, 30 जनवरी को कैंडल मार्च निकालकर आमरण अनशन शुरू करेंगे.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा में कोरोना से जुडी ताज़ा खबरों के लिए अभी जाए कोरोना केस हरियाणा ताज़ा खबर पर.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *