हरियाणा के सरकारी स्कूलों में कक्षा 1 से 10वीं के सिलेबस में योग शामिल

चण्डीगढ़ | हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने आज़ यानी सोमवार को कहा कि वर्तमान शैक्षणिक सत्र से कक्षा एक से 10 वीं तक के स्कूली पाठ्यक्रम में योग को शामिल कर लिया गया है. अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर आयोजित किए गए एक कार्यक्रम के दौरान उन्होने कहा कि हमने इस साल कक्षा एक से 10 वीं के पाठ्यक्रम में योग को शामिल किया है ताकि बच्चे इसे अपने प्रतिदिन जीवन का हिस्सा बनायें.

हरियाणा

उन्होंने कहा कि हमने 1000 गांवों में योग और व्यायामशाला स्थापित करने का अहम निर्णय किया है. अब तक कुल 550 गांवों में इसकी स्थापना हुई है और बाकि बचे हुए गांवों में काम जारी है और इसके लिए 22 योग प्रशिक्षक भी नियुक्त किये जायेंगे.

इस दौरान उन्होंने कहा, जैसे हमें ऑक्सीजन, भोजन और जल की जरूरत होती है बिलकुल उसी तरह से ही हमारे तन को स्वस्थ बनाये रखने के लिए योग का अपना महत्व है. योग का अभ्यास करने की आदत को आत्मसात करने और बचपन से ही इसे छात्रों के जीवन का हिस्सा बनाने के लिए हमने इस साल से स्कूली पाठ्यक्रम में इसे शामिल करने का निर्णय किया है.

मालूम हो कि 21 जून की तारीख ने बीते कुछ ही वर्षों में इतिहास में एक महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त कर लिया है. अन्य तमाम घटनाओं के अतिरिक्त यह तारीख छह वर्ष पहले अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में इतिहास में दर्ज हुई जब भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की पहल पर संयुक्त राष्ट्र ने 21 जून को अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने का आह्वान किया और देखते ही देखते दुनिया के तमाम देश इस मुहिम में शामिल हो गए.

कहा जाता है कि 21 जून का दिन सबसे ख़ास है क्योंकि यह वर्ष के 365 दिन में सबसे लंबा दिन होता है और योग के निरंतर अभ्यास से व्यक्ति को लंबा जीवन मिलता है. ऐसे में यही मुख्य वजह है कि इस दिन को योग दिवस के रूप में मनाने का निर्णय किया गया है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा में कोरोना से जुडी ताज़ा खबरों के लिए अभी जाए कोरोना केस हरियाणा ताज़ा खबर पर.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *