हरियाणा के इन 10 जिलों में चलेंगी 800 लग्जरी बसें, किराया भी होगा बेहद कम

चंडीगढ़, Haryana Electric Buses | हरियाणा वासियों का बहुत जल्द सफर आसान होने जा रहा है. प्रदेश सरकार ने रोडवेज को 800 लग्जरी बसें देने का एलान कर दिया है. इस बसों की खास बात यह है कि यह प्रदूषण और ईधन की बढ़ती कीमतों को ध्यान में रखकर बनाई गई है. यानि ये बसें पेट्रोल-डीजल की नहीं बल्कि इलेक्ट्रॉनिक होंगी. जिनके चलने पर किसी भी प्रकार का शोर और प्रदूषण नहीं होगा.

Electric Buses

इसके अलावा, दूसरा कारण यह भी है कि भारत को बाहर विदशों से तेल मंगाना पड़ता है. ऐसे में सरकार भारत में तेल की खपत कम करना चाहती है. जिसके चलते साल 2030 तक भारत को आत्मनिर्भर बना सरकार का ज्यादा से ज्यादा इलेक्ट्रिक गाड़ियां लाने का लक्ष्य है.

10 जिलो में होगा संचालन

बता दें हरियाणा रोडवेज की ये 800 इलेक्ट्रिक बसें हरियाणा के 10 जिलों में चलेंगी. वही इनमें 600 नॉन एसी और 200 बसें एसी होंगी. इन इलेक्ट्रिक बसों की बैटरी एक बार चार्ज हो जाने पर यह करीब 200 किमी तक चलेंगी. सबसे अच्छी बात यह है कि इन सभी बसों का किराया बाकि बसों की तरह सामान्य होगा. अधिकारियो का कहना है कि बीएस की लंबाई करीब 12 मीटर होगी. जिसमे 50 के करीब सीट होंगी.

ट्रेंडिंग-  Breaking: हरियाणा में 1 जुलाई से खुलेंगे सभी स्कूल, बदला स्कूलो का टाइम

नवंबर तक होगा संचालन

फ़िलहाल इन बसों के संचालन की अनुमति के लिए नगर निगम सीएमओ (CMO) के पास प्रपोजल भेजा गया है. वहां से आज्ञा मिलने के बाद बताया जा रहा है नवम्बर महीने तक ये बसें सड़कों पर दौड़ती दिखाई देंगी. फ़िलहाल सरकार का लक्ष्य इन लग्जरी बसों को एक जिले से दूसरे जिले में चलाने का है. अब धीरे-धीरे इन्हे एक से दूसरे जिलों से भी कनेक्ट किया जा सकता है. क्यूंकि हरियाणा से अन्य जिलों जैसे फरीदाबाद, गुड़गांव, अंबाला, पानीपत, हिसार, करनाल आदि की अधिक दूरी नहीं है. ऐसे में इन बसों को दूसरे शहरों से इंटरकनेक्ट करने में दिक्क्त नहीं होगी.

ट्रेंडिंग-  हरियाणा पंचायत चुनाव में OBC के आरक्षण पर लगी रोक, राज्य चुनाव आयोग ने लिया फैसला

अधिकारियो ने किया CECAL कंपनी से संपर्क

इन इलेक्ट्रिक बसों के लिए हरियाणा रोडवेज के अधिकारियों ने सीईसीएल कंपनी से संपर्क किया है. जिसमे इन बसों के संचालन को लेकर बात की गयी है. कंपनी की ओर से ड्राइवर, चार्जिंग स्टेशन, इलेक्ट्रिक रिपेयर मैनेजमेंट, बिजली खर्च आदि शामिल होगा. इसके अलावा कंपनी की ओर से देश के 5 शहर सूरत, हैदराबाद, दिल्ली, बैंगलूर और कोलकाता के लिए 5,450 बसें देने के लिए टेंडर फाइनल हुआ है. वही एक बस को करीब 12 साल या 10 लाख किलोमीटर तक चलाने की योजना है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा से जुडी ताज़ा खबरों के लिए अभी जाए Haryana News पर.